राज्य सभा सीट एक,उम्मीदवार अनेक,उमा और कैलाश सबसे आगे,जानिए समीकरण

राज्य सभा सीट एक, उम्मीदवार अनेक
 
 | 
leader

File photo

राज्य सभा सीट एक, उम्मीदवार अनेक, उमा और कैलाश सबसे आगे

भोपाल। मध्यप्रदेश में राज्यसभा की कुल 11 सीटें हैं। एक सीट खाली है। यह सीट केंद्रीय मंत्री रहे थावरचंद गेहलोत के इस्तीफे के बाद खाली हुई है। गहलोत अभी कर्नाटक गर्वनर हैं। इस सीट के लिए 4 अक्टूबर को वोटिंग होगी। वहीं, इस सीट पर उपचुनाव के लिए निर्वाचन आयोग आज अधिसूचना जारी करेगा। इसके साथ ही नामांकन पत्र दाखिल करने की प्रक्रिया विध्रानसभा में शुरू हो जाएगी।

आपको बता दे कि शेष बची 10 में से 6 सीटों पर भाजपा का कब्जा है, जबकि 4 पर कांग्रेस काबिज है। जबकि विधानसभा में बहुमत को देखते हुए इस सीट पर BJP का जीतना लगभग तय है। मालूम हो कि वर्तमान में ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह, संपतिया उईके, एमजे अकबर, विवेक तन्खा, अजय प्रताप सिंह, कैलाश सोनी, धर्मेंद्र प्रधान, राजमणि पटेल, सुमेर सिंह सोलंकी मध्यप्रदेश से राज्यसभा सांसद हैं।

इस सीट से भाजपा के कई दावेदार

बताते चले कि भाजपा के कई बड़े दावेदार राज्यसभा सीट की दौड़ में हैं। उनमें भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती, प्रदेश प्रवक्ता अर्चना चिटनीस के नाम इस दौड़ में आगे चल रहें हैं।

वहीं, पार्टी सूत्रों का कहना है कि मोदी कैबिनेट में कई नए मंत्री हैं, जो लोकसभा और राज्य सभा, दोनों सदनों के सदस्य नहीं हैं। इसमें से किसी एक को एमपी के कोटे से राज्यसभा सांसद बनाने की संभावना अधिक है।

इसके अलावा अनुसूचित जाति मोर्चे के राष्ट्रीय अध्यक्ष लाल सिंह आर्य को भी इस सीट का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। आर्य पहले मप्र की शिवराज सरकार में मंत्री रह चुके हैं। दरअसल, पार्टी नेताओं का दबाव है कि थावरचंद गहलोत अनुसूचित जाति वर्ग से थे, इसलिए रिक्त हुए आधे कार्यकाल के लिए यह सीट इसी वर्ग से ही भरी जाए। यदि इस बारे में विचार आगे बढ़ा तो भाजपा लाल सिंह आर्य के नाम पर मुहर लगा सकती हैं।

समीकरण क्या कहता है

वही जानकारों के अनुसार विधानसभा में दल की स्थिति के मुताबिक बीजेपी का इस सीट पर कब्जा बरकरार रहेगा, क्योंकि विधानसभा में बीजेपी बहुमत में है। जबकि कांग्रेस के 95 सदस्य हैं। इसके अलावा 4 निर्दलीय, बसपा के दो और सपा की सदस्य संख्या एक है। बता दें, विधान सभा में कुल 230 में से 3 सीट रिक्त है। पृथ्वीपुर, जोबट और रैगांव विधानसभा क्षेत्र की सीटें विधायकों के निधन की वजह से रिक्त हुईं है।