डभौरा थाना क्षेत्र में खून से लथपथ युवती मिली थी का खुलासा -

 युवती का एक्सीडेंट नहीं वरन मार कर मृत मान छोड़ भागा था -
 
 | 
1

File photo

23 जून की रात्रि डभौरा थाना क्षेत्र में खून से लथपथ मिली, युवती का एक्सीडेंट नहीं वरन मार कर मृत मान छोड़ भागा था आरोपी -

 हनुमना । सनसनी खेज खबर मध्य प्रदेश के रीवा जिले के डभौरा थाना क्षेत्र से है जहां 23 जून की रात हनुमना से डभौरा में 10 वर्ष पूर्व ब्याही गई 26 वर्षीय महिला को डभौरा थाना क्षेत्र के ग्राम मांगरोल निवासी 25 वर्षीय मिलिट्री का जवान जयदीप शुक्ला नामक व्यक्ति ने रात तकरीबन 8:00 बजे डभौरा मार्केट से 3 किलो मीटर पहले सुनसान जगह में उक्त महिला के साथ मारपीट करते हुए पत्थर तथा मोटर साइकिल के ठोकरो से मारते हुए उसे मृत समझकर वहीं छोड़ कर चला गया था ।

बताया जाता है कि सहयोग से एक एम्बुलेंस वाहन उसी दौरान उधर से गुजर रहा था बताया जाता है कि एम्बुलैंस चालक अकेला होने से कहीं आरोपी उसपर भी वार न करें इसलिए चुप चाप दूर ही अपनी गाड़ी खड़ी कर जायजा लेता रहा आरोपी जयदीप जैसे ही मृत समझकर युवती को छोड़कर भागा एंबुलेंस के चालक ने 100 नंबर डायल कर पुलिस को सूचना दी जिस पर पुलिस ने पहुंचकर वहां का रक्तरंजित मंजर देख कर आश्चर्यचकित रह गई वही पुलिस ने उल्टा कल्था कर जब उसे देखा तो उसकी सांसे चल रही थी बार बार पूछने पर भी बह इतना बोल पा रही थी कि जयदीप ने मारा जयदीप ने मारा।

 बताया जाता है कि तत्काल उसे डभौरा चिकित्सालय में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरों ने प्राथमिक उपचार के बाद शरीर से अधिक खून रिसने से मरणासन्न मानो अन्तिम स्वांसे गिन रही हो जैसी स्थिति देख उक्त युवती को संजय गांधी चिकित्सालय रीवा रेफर कर एंबुलेंस से भिजवाया जहां 3 जुलाई तक गहन चिकित्सा के बाद पीड़िता को  होश आने पर परिजनों के कहने पर छुट्टी दे दी गई पीड़िता को मोटर साइकिल के बार-बार सिर व गले पर चढ़ाने से नीचे का जबड़ा बुरी तरह चकनाचूर हो गया वही सिर तथा शरीर के विभिन्न अंगों में गंभीर चोट आई ।

गौरतलब है कि  पीड़िता का मायका हनुमना मे है जहां उसके मायके के पक्ष के लोगों ने सूचना मिलते ही हॉस्पिटल पहुंचकर देख रेख की वही तकरीबन डेढ़ वर्ष पहले पति की मृत्यु के बाद भी ससुराल में रह रही पीड़िता के ससुराल पक्ष वालों ने पुलिस के सूचना के बावजूद यह कहकर पल्लू झाड़ लिया था कि हम लोगों से कोई मतलब नहीं आप उनके मायके हनुमना फोन कर सूचना दे। 

यहां यह भी उल्लेख करना आवश्यक है कि तकरीबन 10 वर्ष पहले पीड़िता का विवाह डभौरा में हुआ था उसके क्रमशः 9 तथा 7 वर्ष के दो बच्चे हैं मृतका का फोटो व वीडियो देख कर के ही स्पष्ट होता है कि किस प्रकार से निर्दयता पूर्वक घटना को अंजाम दिया गया है इधर इधर चेतना आते ही पीड़िता ने डभौरा थाना पहुंचकर बोलने में असमर्थ होने के बावजूद भी अपना बयान दर्ज करा दिया है।

 पत्रकारों द्वारा पूछे जाने पर परिजनों ने बोलने में पूर्ण स्वस्थ होने पर ही घटना का बयान करने की बात कही वही एसडीओपी वीरेंद्र सिंह तथा थाना प्रभारी से भी संपर्क करने का प्रयास किया गया लेकिन मुख्यालय से बाहर होने के कारण संपर्क नहीं हो सका। पीड़िता के परिजनों ने पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन आईजी महोदय तथा माननीय गृह मंत्री महोदय से तत्काल उक्त आरोपी को गिरफ्तार कर सख्त से सख्त सजा देने की मांग की है।