जीएनए ध्यान दें! लद्दाख में कांग्रेस की भाजपा पर जीत के बाद जयराम रमेश का गुलाम नबी आजाद पर तंज -

लद्दाख में कांग्रेस की भाजपा पर जीत पर,गुलाम नबी आजाद पर तंज -
 
 | 
1

File photo

जीएनए ध्यान दें! लद्दाख में कांग्रेस की भाजपा पर जीत के बाद जयराम रमेश का गुलाम नबी आजाद पर तंज -

लद्दाख में कांग्रेस की भाजपा पर जीत को लेकर पार्टी के प्रवक्ता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने गुलाम नबी आजाद पर तंज कसा है। ट्वीट किया है- जीएनए ध्यान दें।

GNA ध्यान दें! लद्दाख में कांग्रेस की भाजपा पर जीत के बाद जयराम रमेश का गुलाम नबी आजाद पर तंज -

लद्दाख में कांग्रेस की भाजपा पर जीत को लेकर पार्टी के प्रवक्ता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने गुलाम नबी आजाद पर तंज कसा है। पीएम मोदी और अमित शाह को भी लपेटे में लेते हुए उन्होंने ट्वीट किया है- जीएनए ध्यान दें। बता दें कि रमेश का आजाद को यह संदेश इसलिए भी रोचक है क्योंकि आजाद ने हाल ही में कांग्रेस छोड़ते हुए पार्टी के भविष्य पर सवाल उठाए थे और राहुल गांधी पर निजी हमले किए थे। साथ ही यह भी कहा था अब उनका ध्यान जम्मू कश्मीर पर ही रहेगा। आजाद के कांग्रेस छोड़ने के बाद जम्मू कश्मीर में कई कांग्रेसी नेताओं ने उन्हें समर्थन देते हुए कांग्रेस छोड़ दी थी।

दरअसल, लद्दाख सीट पर कांग्रेस पार्टी के ताशी टुंडुप ने भाजपा प्रत्याशी दोरजय नामग्याल को 273 वोटों के अंतर से हराकर उपचुनाव में जीत हासिल की। कांग्रेस पार्टी की जीत से उत्साहित पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने कहा, "यहां मोदी, शाह और आजाद के लिए कुछ ब्रेकिंग न्यूज है। लद्दाख हिल काउंसिल के टेमिसगाम उपचुनाव में कांग्रेस पार्टी ने भाजपा को भारी अंतर से हराया है। लद्दाख जिला कांग्रेस कमेटी को बधाई!" जयराम रमेश ने एक अन्य पोस्ट में लिखा है कि पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक पार्टी को 273 वोटों से जीत मिली है।

आजाद को दो शब्दों का संदेश
लद्दाख में कांग्रेस की जीत से खुश जयराम रमेश ने गुलाम नबी आजाद को दो शब्दों में अपना संदेश भेजा। ट्वीट करते हुए वो लिखते हैं- जीएनए, ध्यान दें। इससे पहले भी जयराम रमेश पार्टी से इस्तीफा देने के बाद से आजाद पर हमलावर रहे हैं।

गौरतलब है कि अपने पांच पन्नों के त्याग पत्र में आजाद ने सीधा राहुल गांधी पर हमला बोला था। आरोप लगाया था कि कांग्रेस पार्टी में सोनिया गांधी सिर्फ नाम की अध्यक्ष हैं। जबकि सभी फैसले राहुल गांधी, उनके पीए और सुरक्षा कर्मी तक लेते हैं।

साभार हिदुस्तान टाइम्स