Home राष्ट्रीय विकास दुबे की मौत पर देश कि सियासत उबाल पर,

विकास दुबे की मौत पर देश कि सियासत उबाल पर,

राहुल गांधी,प्रियंका गांधी कांग्रेस,अखिलेश यादव सपा राज्य सभा सांसद दिग्विजय सिंह मायावती बीएसपी ने सवाल उठाए।

देश के राष्टीय नेताओं ने विकास दुवे की मौत पर सवाल पर सवाल खड़े किए है। जिसका जबाब कब और कैसे आएगा सरकार को तय करना है।

उत्तर प्रदेश कानपुर,10 जुलाई ।

कानपुर का गैंगस्टर आठ पुलिस कर्मियों के हत्याकांड और कई पुलिस कर्मियों का घायल करने का आरोपी विकास दुबे के बॉलीवुड अंदाज से उज्जैन में पकड़ाने और फिर मुठभेड़ में मारे जाने के दावे को लेकर सियासत उबाल पर है। कांग्रेस सपा और बसपा ने इस पर गंभीर सवाल तो उठाए ही हैं।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी समाजवादी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव, पुर्व मुख्यमंत्री राज्य सभा सांसद दिग्विजय सिंह,और बसपा सुप्रीमो मायावती ने मुठभेड़ के दावे पर सीधे सवाल खड़े किया हैं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट में लिखा –

कौन-कौन लोग इस तरह के अपराधी की परवरिश में शामिल हैं- ये सच सामने आना चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जज से पूरे कांड की न्यायिक जाँच होनी चाहिए

सपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सीधे ही सवाल उठाया है, और विकास दुबे के अपराधिक पृष्ठभूमि और संरक्षण में मौजुदा सत्ता की ओर सीधा इशारा करते हुए लिखा है –
“दरअसल ये कार पलटी नहीं है.. राज खुलने से सरकार पलटने से बचाई गई है”

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने भी मुठभेड़ पर उठाया है, और पूछा है कि कई सवाल के जवाब नहीं मिलेंगे लेकिन यह तो पता लगना चाहिए तीनों एनकाउंटर का पैटर्न का एक समान क्यों है.. दिग्विजय सिंह ने लिखा है –
“जिसका शक था वह हो गया। विकास दुबे का किन किन राजनैतिक लोगों से, पुलिस व अन्य शासकीय अधिकारियों से उसका संपर्क था, अब उजागर नहीं हो पाएगा। पिछले 3-4 दिनों में विकास दुबे के 2 अन्य साथियों का भी एनकाउंटर हुआ है लेकिन तीनों एनकाउंटर का पैटर्न एक समान क्यों है?”

वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने पूरे मामले की जाँच सुप्रीम कोर्ट से करने की माँग रखी है। मायावती की यह माँग केवल कथित मुठभेड़ की जाँच तक सीमित नहीं है, वे उन आठ पुलिसकर्मियों की हत्या की भी अपने अधिकृत ट्वीटर हैंडल पर उन्होंने लिखा –
“कानपुर पुलिस हत्याकाण्ड की तथा साथ ही इसके मुख्य आरोपी दुर्दान्त विकास दुबे को मध्यप्रदेश से कानपुर लाते समय आज पुलिस की गाड़ी के पलटने व उसके भागने पर यूपी पुलिस द्वारा उसे मार गिराए जाने आदि के समस्त मामलों की माननीय सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में निष्पक्ष जाँच होनी चाहिए।यह उच्च-स्तरीय जाँच इसलिए भी जरूरी है ताकि कानपुर नरसंहार में शहीद हुए 8 पुलिसकर्मियों के परिवार को सही इन्साफ मिल सके। साथ ही, पुलिस व आपराधिक राजनीतिक तत्वों के गठजोड़ की भी सही शिनाख्त करके उन्हें भी सख्त सजा दिलाई जा सके। ऐसे कदमों से ही यूपी अपराध-मुक्त हो सकता है।”

कांग्रेस पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष वरिष्ट नेता राहुल गांधी ने ट्वीट किया है –
“कई जवाबों से अच्छी है ख़ामोशी उसकी न जाने कितने सवालों की आबरू रख ली”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मध्यप्रदेश कोरोना अपडेट शुक्रवार 23 अप्रैल 2021

भोपाल मध्यप्रदेश सम्पूर्ण मध्यप्रदेश का कोरोना अपडेट शुक्रवार 23 अप्रैल 2021

रेमडेसिविर और ऑक्सीजन की आपूर्ति निर्बाध रूप से जारी: मुख्यमंत्री श्री चौहान

भोपाल : शुक्रवार, 23 अप्रैल 2021 मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि राज्य सरकार कोरोना मरीजों के...

किल कोरोना अभियान-2 घर-घर जाकर होगी कोरोना मरीजों की पहचान: स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी 24 अप्रैल से 9 मई तक चलेगा अभियान

भोपाल : शुक्रवार, 23 अप्रैल 2021 स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने बताया कि 24 अप्रैल से 9 मई...

नीमच में 17 घण्टे में 14 मौत,10 का दाह संस्कार, 4 को किया सुपुर्द ए ख़ाक

कोरोना की क्रूरता की इंतहा हो गई है। कोरोना से होने वाली मौतों का सिलसिला नीमच में भी रुकने के नाम नहीं...
All countries
145,807,975
Total confirmed cases
Updated on April 23, 2021 4:15 pm

Recent Comments

Open chat
1
सहारा समाचार, आपके परेशानियों के साथ है,आप आवश्यकता पड़ने पर, हमारा सहयोग ले सकते है। धन्यवाद